मुख्यमंत्री के शहर गोरखपुर में कोरोना की दस्तक

दुनिया में 30 लाख कोरोना संक्रमित मरीज पाए जाने के बाद भी गोरखपुर (Gorakhpur) संक्रमण से बचा हुआ था। लेकिन कल यानी 26 अप्रैल को संक्रमित जिलों की लिस्ट में शामिल हो गया ।

दिल्ली में प्राइवेट नौकरी करने करने वाले बाबूलाल की तबीयत चार दिन पहले खराब हुई। उसके साथ दिल्ली में ही उरुवा क्षेत्र के दो और लोग रहते हैं। जिसमें असिलाभार गांव का सोनू भी शामिल है। तबियत खराब होने पर दोनों साथियों ने उसे दिल्ली के सफदरजंग अस्पताल में भर्ती कराया। बाबलाल को सीने में दर्द की शिकायत थी ।

शनिवार को सफदरजंग अस्पताल के डॉक्टरों ने उसे रेफर कर दिया। साथियों ने बाबूलाल को दिल्ली में दूसरे अस्पताल ले जाने की बजाय गोरखपुर लाने का फैसला किया और गोरखपुर को भी संक्रमित जिलों लिस्ट में शामिल कर दिया ।

बाबूलाल और दोनों साथियों ने लॉक डाउन में अन्य कोई साधन न मिलने के वजह से एम्बुलेंस की व्यवस्था की। बाबूलाल के साथ दोनों साथी भी दिल्ली से उसी एम्बुलेंस में लौटे।

एम्बुलेंस ने दोनों साथियों को उरुवा में उतारा। इसके बाद बाबूलाल को उसके घर दोपहर एक से दो बजे के बीच उतारा।

गांव वालों ने जैसे ही सुना कि दिल्ली से बाबूलाल को एम्बुलेंस से लाया गया है। गांव वालों ने इसका विरोध करना शुरू कर दिया। गांव वालों ने मांग की कि बिना कोरोना जांच के बाबूलाल को गांव में न रहने दिया जाय। लेकिन किसी तरह मामला शांत कराया गया ।

गांव वालो के अनुसार शाम चार बजे के बाद बाबूलाल की तबीयत बिगड़ने लगी। घर पर पिता नंदलाल, माता राजदेई, पुत्र अजय हरिलाल और गोविन्द मौजूद थे। गोविन्द अपने बीमार पिता बाबूलाल को लेकर पीएचसी उरुवा पहुंचा।

जहा डॉक्टर आबिद ने उसकी जांच कर मामले की गंभीरता देखते हुए उसे जिला अस्पताल रेफर कर दिया। जिला अस्पताल से प्रारंभिक जांच के बाद ट्रेवेल हिस्ट्री देख कर उसे फौरन बीआरडी मेडिकल कॉलेज रेफर किया गया।

जिला अस्पताल से रेफर होने के बाद बाबूलाल को रविवार शाम करीब सात बजे परिजन एम्बुलेंस से लेकर पहुंचे। उनकी सांस फूल रही थी। सीने में दर्द की शिकायत थी। मतलब की कोरोना के लक्षण साफ साफ दिख रहा था ।वह बीपी और शुगर मरीज है। उसकी हालत और ट्रेवेल हिस्ट्री देखकर डॉक्टरों ने आइसोलेशन वार्ड में भर्ती किया और फौरन गले से लार का नमूना कोरोना जांच के लिए भेजा गया।

बाबूलाल की हालत को देखते हुए उसके सैम्पल की सीबीनेट मशीन से जांच करने का फैसला किया गया। यह मशीन जो की करीब डेढ़ घंटे में रिपोर्ट देती है।

रात करीब 10 बजे रिपोर्ट कोरोना पॉजिटिव मिली। इसकी सूचना फौरन कमिश्नर, डीएम और सीएमओ को दी गई। मरीज के साथ ही परिजनों को क्वारंटीन कर दिया गया है। पूरे गांव हो सील कर पुलिस तैनात कर दिया गया ।

Spread the love
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

One Comment on “मुख्यमंत्री के शहर गोरखपुर में कोरोना की दस्तक”

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *